बेटा बेटी में भेदभाव ना कीजिये

hanuman meena

रचनाकार- hanuman meena

विधा- कविता

बेटे को तुम लाड लड़ाते
बेटी को क्यों दुत्कार रहे।
बेटे ने क्या गुल खिलाया
बेटी को क्यूँ नकार रहे।।

बेटे को पब्लिक स्कूल बजे
बेटी को शिक्षा देते नहीं।
बेटे की हर जिद्द पूरी करते
बेटी पर देते ध्यान नहीं।।

बेटा कभी तुम्हे दुत्कार देगा
बेटी कभी ऐसा नहीं करेगी।
चाहे किसी हालत में रखना
बेचारी ना उफ्फ तक करेगी।।

बेटे की तुम गाली भी सुनते
बेटी की भावना समझा करो।
लाड प्यार की भूखी है वो
हर ख्वाहिश पूरी किया करो।।

Sponsored
Views 165
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
hanuman meena
Posts 1
Total Views 165
मैं हनुमान सहाय मीना सरकारी अध्यापक के तौर पर कार्यरत हूँ, लिखने का इतना अनुभव तो नहीं, पर अन्य लोगो को पढ़कर सीखने की कोशिश करता हूँ, और लिखने की कोशिश करता हूँ। मुझे बेटियों और आज नारी पर होते अत्याचारों पर लिखना पसन्द है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia