बुतों का शहर

Anil Shoor

रचनाकार- Anil Shoor

विधा- कविता

_कविता_
बुतों का शहर

*अनिल शूर आज़ाद

हर तरह
और/हर रंग के
बुतों का/एक विशाल
अजायबघर है/यह शहर

हर
अच्छी एवं बुरी/घटना के
राजदार हैं/यहां बुत

पर..
बुत आखिर
एक बुत ही
होता है

इसलिए/प्रायः
चुप ही/रहते हैं
यहां लोग।

(रचनाकाल : वर्ष 1986)

Views 8
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Anil Shoor
Posts 42
Total Views 356

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia