बुढापा

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- अन्य

🌹🌹🌹🌹
🌺बुढापा 🌺

🌺आया जीवन संध्या
कांटे भरी बगिया
दूर सभी खुशियाँ 🌺1

🌺बुढापे की माया
कितना रोग लाया
दर्द भरी काया 🌺2

🌺बड़ा कठिन घड़ी
कमर झूकी
हाथ में छड़ी 🌺3

🌺बुढापे का कहर
कमजोर नजर
दवा भी बेअसर 🌺4

🌺जब आता बुढापा
चेहरे पर गहरी छाया
माथे पर हिमाला 🌺5

🌺चेहरे पर झुर्रियां
अकेलेपन की दुनिया
कितनी मजबूरियां 🌺6
–लक्ष्मी सिंह 💓☺

Views 117
Sponsored
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 111
Total Views 24.9k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia