बीटीया

Ravinder Singh Sahi

रचनाकार- Ravinder Singh Sahi

विधा- कविता

बाहों में झुलाया, गोदी में खीलाया ।
सिने पर सुलाया, पीठ पर खिलाया ।
खुद रो कर , तुझको हसाया ।
कांटों से बचाया, मल-मल पर सुलाया ।
बेटी होकर बेटे का फर्रज़ नीभाया ।
यह मेरी बिटीया रानी है ।
पिता की प्यारी, माँ को लगे न्यारी ।
यह मेरी बीटीया रानी है, यह मेरी बीटीया रानी है ।
समय बीता, बीते दिन रात ।
आज चली वह लेकर मेरे सपनों की सौगात ।
जो सिखाया माँ ने, सब थी अछी बात ।
आज चली वह रखने अपने पिता की लाज ।
यह मेरी बीटीया रानी है, यह मेरी बीटीया रानी है ।
छोड चली भीगी पलकें, बननें सास-ससुर की लाज ।
यह मेरी बीटीया रानी है, यह मेरी बीटीया रानी है ।

Views 528
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ravinder Singh Sahi
Posts 3
Total Views 617

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia