बिरले ही बनते यहाँ , तुलसी सूर कबीर

Dr Archana Gupta

रचनाकार- Dr Archana Gupta

विधा- दोहे

1
घिस घिस कर पाषाण पर, हिना बिखेरे रंग
तभी चमकते हम यहाँ,सहें कष्ट जब अंग
2
तुलसी साधू हो गये, मोह गया जब टूट ।
सियाराम से हो गया, उनका नेह अटूट
3
गिर जाते जो पेड़ से , जुड़े नहीं ज्यूँ पात
बात बिगड़ने पर नहीं , आती फिरं वो बात
4
धोकर कलुषित भाव सब, बनो नेक इंसान
सीख यही देता हमें , पावन गंगा स्नान
5
फँसकर माया मोह में ,क्यों बदली है चाल
धरा यहीं रह जाएगा ,जब आयेगा काल
6
ख्याति और आलोचना , रहतीं हरदम साथ
कहीं किसी भी मोड़ पर ,नहीं छोड़तीं हाथ
7
लेखन है इक साधना,नहीं हवा में तीर
बिरले ही बनते यहाँ , तुलसी सूर कबीर

डॉ अर्चना गुप्ताह

Sponsored
Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr Archana Gupta
Posts 265
Total Views 17.1k
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia