बिटिया

Top 30 Post

योगेश गुप्ता

रचनाकार- योगेश गुप्ता

विधा- कविता

घर आँगन की शान है बिटिया,माँ की जैसे जान है बिटिया
बिटिया घर की रौनक होती, चेहरे की मुस्कान है बिटिया

ख़ुशी ख़ुशी हर गम को सहती, हर खुशियों में आगे रहती
बिटिया से घर बनता जन्नत, ईश्वर की वरदान है बिटिया

बिटिया घर का बड़ा सहारा, घर का इन पर बोझ है सारा
बिटिया माँ की ताकत है, पापा का अभिमान है बिटिया

बिटिया खुशबु आंगन की है, बिटिया कलियां दामन की है
बिटियां ही महकाती जीवन, पूरा एक बागान है बिटिया

बिटिया माँ की छाया बनकर, लक्ष्मी सी वो काया बनकर
सबके रग में रची बसी सी, घर की एक मेहमान है बिटिया

लगा के मेहँदी पहन के बिंदिया,छोड़के अपनी मीठी निंदिया
जिस दिन छोड़ेगी बाबुल को,उस दिन से अंजान है बिटिया

हर हाल ढल जाती बिटिया , फिर कैसे जल जाती बिटिया
कैसे साथ जाऊं सजन के, यह सोच सोच हलकान बिटिया

इस दुनिया में आने से पहले, ममता माँ की पाने से पहले
कोख में जो मारी जाती , नन्ही सी एक जान है बिटिया

जो कुछ बेटा कर सकता है, वह सब बिटिया कर सकती है
बेटों के समान है बिटिया , अब कहाँ गुमनाम है बिटिया

Views 4,399
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
योगेश गुप्ता
Posts 2
Total Views 4.5k
छतीसगढ़ के कोरिया जिले से हूँ, संवेदंशील विषयों पर मंचीय कविताएं लिखता हूं, श्रृंगार को छोड़ बाकी सभी विधाओं पर कलम चलाता हूँ ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia