बिटिया

ABHISHEK SHARMA

रचनाकार- ABHISHEK SHARMA

विधा- कविता

बिटिया को खूब पढ़ाया है
जीवन को जीना सिखाया है
उसे कैसे नम आँखे दिखाऊँ
यह सोच के दिल घबराया है
नटखट सी है वो मेरी गुड़िया
फिर से रूठा चेहरा बनाया है
तुझ मे बसती मेरी सारी हंसी
आज उसने ही हमें रुलाया है
विदा कैसे करू में बिटिया को
पलको पर सदा जिसे बिठाया है
_____________अभिषेक शर्मा

Sponsored
Views 285
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ABHISHEK SHARMA
Posts 11
Total Views 328

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia