बिटिया रानी

Pushpendra Rathore

रचनाकार- Pushpendra Rathore

विधा- कविता

एक अनलिखी अनपढ़ी कहानी हूं,
मैं जूही, चंपा व रातरानी हूं,

हंसता बचपन और गुड्डे गुङिया,
मैं तो बाबा की बिटिया रानी हूं,

बङी हुई तो रंगत गोरी निखरी,
पर मैं शापित व पीङित जवानी हूं,

वहसी नजरें, शोषित जीवन, दहेज,
पिता का झुका शीश, परेशानी हूं,

मेरी वजह से सहते बहुत बाबा,
क्या ईश्वर की भूल व नादानी हूं,

पर बाबा विश्वास करो, मैं कम कब,
मैं गौरव की अनसुनी कहानी हूं,

इंदिरा, कल्पना व नीरजा हूं,
मैं ही तो झांसी की मर्दानी हूं,

तेरे भाल का तिलक बनती बाबा,
मैं तेरी बिटिया बङी सयानी हूं,

Sponsored
Views 72
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pushpendra Rathore
Posts 21
Total Views 338
I am an engineering student, I lives in gwalior, poetry is my hobby and i love both reading and writing the poem

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia