बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा

बृजेश कुमार नायक

रचनाकार- बृजेश कुमार नायक

विधा- अन्य

( मुक्त छंद)

नायक" दाढ़ी मुडा कर, मूँछ घोटना आप|
निश्चय ही बड़ जाएगी, इज्जत रूपी माप ||
इज्जत रूपी माप बढ़ायी श्रीराम ने|
मूँछ कबहुँ न रखी,दिव्य शिव-हनूमान ने ||
कह "नायक" कविराय, मूँछ तज बन अति भोला|
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला||

इसीलिए मूँछें तजीं ,आप व्यर्थ हैरान |
लेखक से कवि बन गया,मेरे दिल का ज्ञान||
मेरे दिल का ज्ञान, हुआ आधा, पुनि आधा|
किंतु गृहस्थी की गाड़ी में नहिं है बाधा||
कह "नायक" कविराय, फाड मत स्वयं पजामा |
आकर्षण से मार, कांच का दिल है भामा ||

बृजेश कुमार नायक
"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" कृतियों के प्रणेता

-दिव्य=प्रकाशमान्
-शिव =महादेव (अष्टमूर्ति के अंतर्गत यह सोम-मूर्ति
तथा ब्रह्मस्वरूप हैं)
-भोला=सीदा-सादा
-भामा=स्त्री(पत्नी)
……………………………………………………………
जनपद के समस्त अधिकारी बंधुओ, साहित्यपीडिया सहित अन्य समस्त साहित्यकारों, ,पत्रकारों एवं समस्त पाठक बंधुओ को पावन पर्व होली की अनंत हार्दिक शुभकामनाएं|
……………………………………………………………

Sponsored
Views 231
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बृजेश कुमार नायक
Posts 137
Total Views 35.2k
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर, कोंच,जालौन,उ.प्र.-285205 मो-9455423376एवं 8787045243 व्हाट्सआप-9956928367

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia