बाल कविता :– गुड़िया है दंग !!

Anuj Tiwari

रचनाकार- Anuj Tiwari "इन्दवार"

विधा- कविता

गुड़िया है दंग

सूरज किरन , चमके गगन ,
चले सनन-सनन, बहकी पवन ,
उडती पतंग !
गुड़िया है दंग !!

खीचे है डोर , मस्ती और शोर,
मन को हिलोर , हसे जोर-जोर,
अम्मा के संग !
गुड़िया है दंग !!

ले के आश , गई अम्मा के पास ,
इन्द्रधनुश , दमके आकाश ,
इन्द्रधनुश का प्यारा रंग !
गुड़िया है दंग !!

कोयल कूके , बाग बगीचे ,
अति प्रिय वाणी , नभ तल नीचे ,
नीलकण्ठ का प्यारा अंग !
गुड़िया है दंग !!

करता कल-कल , नदिया का जल,
होती हलचल , हरदम हरपल ,
उठती जल तरंग !
गुड़िया है दंग !!

बडी ठाठ-बाठ , है सोन घाट ,
देवी के द्वार , सजता है हाट ,
मन मे उमंग !
गुड़िया है दंग !!

सर्कस जादू , ठेलम ठेला ,
गुड्डे गुडियों से सजा है मेला ,
दुल्दुल घोडी और मलंग !
गुड़िया है दंग !!

गुलाबजामुन और मिठाई ,
पानीपुरी संग चाट खटाई ,
बर्फी पेठा और मलाई ,
खूब सजे लड्डू और लाई ,
लस्सी और भंग !
गुड़िया है दंग !!

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 127
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Anuj Tiwari
Posts 107
Total Views 15k
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी मोबाइल नम्बर --9158688418 anujtiwari.jbp@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments