बारिश

Abhinav Kumar Yadav

रचनाकार- Abhinav Kumar Yadav

विधा- गज़ल/गीतिका

ये बारिश की बूंदे जो भिगो देती हैं,
तेरी यादों को दिल में पीरो देती हैं,
हँस के करते हैं याद पर ये रूला देती हैं,
तेरी यादें क्यों हमको ये सजा देती हैं,
अगर मैं पास आना चाहूँ भी कभी तेरी आदते आने देती नहीं,
क्या कभी तुम्हें ऐहसास होता नहीं,
अपनी गलतियों की मुझको सजा देती हो,
ये कैसा फर्ज है जो अदा करती हो,
चाह कर भी न मैं तुमसे मिल पाता हूँ,
न जाने कैसे में जी पाता हूँ,
तुम समझती क्यों नहीं मैं तुम्हारा इंतज़ार करता हूँ,
तुम्हारे इन्कार पर भी मैं ऐतबार करता हूँ!!
अभिनव

Views 19
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Abhinav Kumar Yadav
Posts 2
Total Views 42

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia