बारिश की बरसती बूंदो से

Yash Tanha Shayar Hu

रचनाकार- Yash Tanha Shayar Hu

विधा- कविता

शाम से एक लहर है मन्न में ,
बारिश की बरसती बूंदो से,
फिर हस भी देगी, बरस पड़ेगी,
सोने ना देगी, चमक पड़ेगी,
कह डाला जो, उठो ना निंदो से,

शाम से एक लहर है मन्न में ,
सागर में बहने को पागल,
तेज चली, सागर में नदियों से,
आज भी बरसी, कल भी बरसी है,
ऊँचे पर्वतो में, ऊँचे अम्बर से,

Views 50
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Yash Tanha Shayar Hu
Posts 37
Total Views 2.1k
Yash Pal Sejwal born 10th March 1980 is a Poet,Lyrics,Songs writer from Delhi, I create and started writing on Facebook page "Tanha Shayar Hu" IN JANUARY 2016. This is my collection of Poems, Lyricis, and Shayari : Facebook page : https://www.facebook.com/tanhashayarhuyash/ https://storymirror.com/author/58cd9f312086f7c143aedf8f https://twitter.com/tanhashayarhu/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia