बाबुल के आगंन की चिडियां

Balkar Singh Haryanvi

रचनाकार- Balkar Singh Haryanvi

विधा- कविता

बाबुल के आंगन की चिडियां
ईक दिन तो तुझे उड़ जाना हे,
जिसके संग में खाई खैली
छोड़ उसी को जाना हे ,
महक रही उपवन की डाली
घर आंगन महकाना हे,
चाेतरफा हो उजियारा
दीपक कि तरह जल जाना हे,
हे मालिक तूं ये तो बता
क्या ये तेरा पैमाना हे,
जिसकी कोख से जन्म लिया
छोड़ उसी को जाना हे,
भर आए बाबुल के नैना
बिटिया को चले जाना हे,
बेशक भूले जग सारा
बाबुल को भूल ना जाना हे!
बलकार सिंह हरियाणवी*

Sponsored
Views 61
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Balkar Singh Haryanvi
Posts 4
Total Views 307
गांव गोरखपुर जिला फतेहाबाद हरियाणा माेबाईल 9068690099

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia