“बाबुल का आंगन”

Prashant Sharma

रचनाकार- Prashant Sharma

विधा- कविता

बाबुल का आंगन लगे ,प्यारा जहां बीता बचपन सारा।
याद आती मेरे मन में ,वह बात दिन रात है।
अंगना दौड़े आंखें मीचे ,माता आती मेरे पीछे।
बाबुल बोले खेलो बेटी ,बता क्या बात है।

आंगन बाबुल का सजाती ,शादी गुड़िया की रचाती।
सुनहरे सपने में खो जाती , होती मन से मन की प्यारी एक बात है।
की जब होगी मेरी शादी, छिन जावेगी आजादी।
कैसे होंगे मेरे साजन ,मन आती यही बात है।

भाई से नित नित लड़ना ,तनक मैं तुनकना।
बाबुल कहे बेटी क्यों रुठी, क्या बात है।
शिकायत पल-पल करना ,रोज सबको तंग करना।
बाबुल के आंगन की ,निराली यही बात है।

मन मार के सो जाती ,जाने सुबह कब हो जाती।
बाबुल के आंगन का ,ऐसा होता दुलार है।
मैं रानी मन की होती, दादी कहती सियानी पोती।
बिना बाबुल आंगन लगे सब बेकार है।

प्रशांत शर्मा "सरल"
नरसिंहपुर

Sponsored
Views 64
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Prashant Sharma
Posts 34
Total Views 1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia