बाप की इस बेबसी पर बेटियाँ रोने लगीं

Pritam Rathaur

रचनाकार- Pritam Rathaur

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल
🌷🌷🌷
अब्र की इस बेरुख़ी पर बिज़लियाँ रोने लगीं
फिर जमीं की आज़ ये बेताबियाँ रोने लगीं
💖🌹🌺🌷💐🍁🍂🍀🌿
हल्दी मेहदी और सहरे से हुई नफ़रत मुझे
देख उसकी बेरुख़ी शहनाइयाँ रोने लगीं
🌹💖🌐🍁🍂🌿💐🌷🌺🌿💖
मुफ़लिसी में हाथ पीले जब नहीं वो कर सका
बाप की इस बेबसी पर बेटियाँ रोने लगीं
🌷💐🌺🌹💖🍁🌐🍂🍀💐🌷
चोट खाकर चुप हुआ तो आइना भी रो पड़ा
जब्त मेरा देख कर खामोशियाँ रोने लगीं
🍁🌲🌹💖🌺🌷💐🍀🍂🍁🌹
हो रही थी जब बिदाई आज़ बेटी की मेरे
हम सभी तो रो रहे थे बस्तियाँ रोने लगीं
🌹🌺🌷💐💖🌐🍁🌿💐🌺🌹
किस तरह पुरजोर होकर चल रही थी वो हवा
जब नशेमन गिर गया तो आँधियाँ रोने लगीं
🌿💐🌷🍂🌐🍁💖🌹🌺🌷🍂
झूले थे झूला कभी हम आम की जिस डाल पर
आज़ पहुंचा जब वहाँ अमराइयाँ रोने लगीं
🌿💐🌷🌺🌹💖🍁🌐🍂🌺
कल अमीरी में ज़माना साथ मेरे था खड़ा
मुफ़लिसी में मेरी ही परछाइयाँ रोने लगीं
💐🌷🌺🌹💖🍁🌐🍂💐🌺🌹
मेरे ख़ाबों का महल इक ज़लज़ले में ढह गया
फिर दरो-दीवार सारी खिड़कियाँ रोने लगीं
🌺🌹💖🌐🍂💐🌷🍂🌐🍁🌹
हम हुए आजाद लेकिन खोये कितने शूरमा
देश ने जो ली है वो कुरबानियाँ रोने लगीं
🌹🌐🍁🍂🍀🌷💐🌺💖🌹🍀🍂🌐🍁
बागबाँ ही है मसलता जब कली और फूल को
बाग़ की ग़मगीनियों पर तितलियाँ रोने लगीं
——@ गिरह
🌹💖🌐🍁🍂🌺🌷💐🍂🍁🌹
जान पे बन आई "प्रीतम" बेवकूफ़ी उनकी और
फँस गयीं जब जाल में तो मछलियाँ रोने लगीं
🌹🌺🌷💐🍂🌐🍁💖🌺🌷🍂🌹
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
12/08/2017
🌺🌷💖🌹🌐🍀🍂🌷💐🌺💖🌹🌹🌐🍁🍀
2122 / 2122/2122/212
💖🌺🌷💐🌹🌐🍂🍀🌷🌺💖

Sponsored
Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pritam Rathaur
Posts 168
Total Views 1.8k
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है मानवता की सेवा सबसे बड़ी सेवा है। सर्वोच्च पूजा जीवों से प्रेम करना ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia