बांच लो पाती नयन की…..

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- कविता

बिन तुम्हारे जो गुजारी,
रैन 'बेचारी' विरहन की।
शब्द वर्णन को नहीं हैं,
बांच लो पाती नयन की।।

स्वांस का आवागमन भी,
जब दुरूह लगने लगे।
रंग सब बेरंग-केवल,
बोझ रूह लगने लगे।
मान लो पतझड़ अवस्था,
हो चुकी जैसे चमन की।
बांच लो पाती नयन की।।

पुष्प बिन खुशबू अधूरे,
बिन कली मधुकर फिरें।
आगमन 'मधुमास' हो,
झर-झरके झरने निर्झरें।
लौट आए पहले-सी ही,
सीरत मन-उपवन की।
बांच लो पाती नयन की।।

फिर मुझे पहले-सी ,
प्रीतम प्रीत देदो।
हार के सब वार दूँ,
वह जीत देदो।
फिर सदा बन के रहूँ,
दासी चरन की।
बांच लो पाती नयन की।।

मन-मगन मनुहार,
करता है समर्पण।
अब पिया-सब कुछ,
करूं तुझको मैं अर्पण।
मेरे हिरदे में महक,
भर दो सुमन की।
बांच लो पाती नयन की।।

हे पिया!सह-भाव,
अंगीकार कर लो।
अपनी वामांगी मुझे,
स्वीकार कर लो ।
हो रहूँ साक्षी सदा,
हिरदय-हवन की।
बांच लो पाती नयन की।।

आपके ही "तेज" से,
महके मेरा मन।
हो समर्पित आपको,
तन,मन-ओ जीवन।
एक-कर दूरी मिटा दो,
देह-तन की।
बांच लो पाती नयन की।।

रचना : तेजवीर सिंह 'तेज'

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 2
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 50
Total Views 326
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia