बहुत उदास है दिल

umesh mehra

रचनाकार- umesh mehra

विधा- गज़ल/गीतिका

बहुत उदास है दिल, आप जाने सुकून बन जाओ। सफ़र कटेगा मजे से, गर आप हमसफ़र बन जाओ ।।
मेरी फक़त बिसात क्या, कि तुझे अपना बना लूँ ।
फकत ये आरज़ू है, कि तुम मेरी जान बन जाओ ।। हमनफस नहीं है मेरा, राहे सफ़र के लिए कोई ।
गुलों से राह सजा दू, गर आप साथ आ जाओ ।।
गुलों के रंग भी बे-नूर , से लगे हमको ।
कुछ तो करम हो तेरा, कि नूर ए रंग भर जाओ ।।
सजा जो भी मुकर्रर हो, जिंदगी पेश है सनम।
मेरी तो आरज़ू है कि, दिल को चाक कर जाओ ।।
सजेगी महफिले रोज ही, मगर हम नहीं होंगे ।
अब तो राहे उल्फत मैं, कत्ल ही कर जाओ ।।
बहुत उदास है दिल, आप जाने सुकून बन जाओ ।
उमेश मेहरा
गाडरवारा (मध्य प्रदेश )
9479611152

Sponsored
Views 32
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
umesh mehra
Posts 13
Total Views 297

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia