बहते काजल !

Satyendra kumar Upadhyay

रचनाकार- Satyendra kumar Upadhyay

विधा- कहानी

वह तो बस हुचुर-हुचुर ! रोये जा रही और ऑसूं थे जो सुन्दर-2 ऑखों में लगे काजल को साथ लिए जा रहे लाल हुए गालों की ओर बहते हुए काले किए जा रहे थे ! साॅसें कम और अश्रुधार ज्यादा ! सुधा जो आज भूल गयी थी काजल पोंछना वह भी स्कूल से घर पॅहुचने के पहले !
पिताजी द्वारा प्रतिदिन दिए दस पैसों को इकट्ठा कर तीन महीने के बाद अपनी बचपनी व प्राकृतिक श्रंगार की ओर रूझान जो हो चला था और सौतेली माॅ के डर से वह इसे अपनी सहेली के घर रखती व स्कूल जाते समय लगाती और घर पँहुचने के पहले पोंछ देती थी ।
लेकिन आज भूल गयी थी काजल मिटाना ! तो उसकी सौतेली माॅ ने उसकी छोटी सी दबी , डरी व सहमी सी एकमात्र इच्छा को भी उसके गालों को लाल करते हुए सदा के लिए ऑसुओं में बहा दिया था । पिताजी सबसुन सिर्फ चुप थे पर उनके ऑसूं तो बह जरूर रहे थे पर अंदर की ओर ।

Sponsored
Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Satyendra kumar Upadhyay
Posts 13
Total Views 61
short story writer.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia