बहका बहका समां है…….

Awneesh kumar

रचनाकार- Awneesh kumar

विधा- कविता

बहका बहका ये समां है बहकी बहकी बात तेरी
न लो अपने आगोश में तुम याद मुझको बात तेरी
राजे वफ़ा दिल में छुपाये हो जानते है
अब ना बहकाओ इस मन को याद पहली मुझको बात तेरी।
(अवनीश कुमार)

Views 8
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Awneesh kumar
Posts 48
Total Views 259
नमस्कार अवनीश कुमार www.awneeshkumar.ga www.facebook.com/awneesh kumar

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia