बलिदान शहीदों का बेकार नहीं होगा

आनंद बिहारी

रचनाकार- आनंद बिहारी

विधा- गज़ल/गीतिका

हर बार हुआ जो भी इस बार नहीं होगा
बलिदान शहीदों का बेकार नहीं होगा।1।

जब तक बाहुबल का व्यवहार नहीं होगा
हो चीज भले अपनी,अधिकार नहीं होगा।2।

उनींदे शेरों को; उकसाते हो, सताते हो
गद्दार कोई भी हो, स्वीकार नहीं होगा।3।

तकरीरें नहीं करनी,तकरार नहीं करना
नापाक हरकतों पे एतबार नहीं होगा।4।

मित्र-बंधु सा रहता, ऐतराज़ नहीं कोई
पीठ पे करे वो वार, स्वीकार नहीं होगा।5।

चंद लोग हमारे थे, जिन्हें था यकीं कमतर
सरकार भरोसे की, वो लाचार नहीं होगा।6।

हिन्द की सेना ने घर में घुस प्रहार किया
समझदार पड़ोसी हो, तो राड़ नहीं होगा।7।

इस पार हो जाए या उस पार ही हो जाए
अब ताशकंद जैसा, मझधार नहीं होगा।8।

-आनंद बिहारी, चंडीगढ़
29.09.2016
WhatsApp:9878115857

Sponsored
Views 335
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आनंद बिहारी
Posts 25
Total Views 6.3k
गीत-ग़ज़लकार by Passion नाम: आनंद कुमार तिवारी सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान जन्म: 10 जुलाई 1976 को सारण (अब सिवान), बिहार में शिक्षा: B A (Hons), CAIIB (Financial Advising) लेखन विधा: गीत-गज़लें, Creative Writing etc प्रकाशन: रचनाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित FB/Tweeter Page: @anandbiharilive Whatsapp: 9878115857

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
3 comments
  1. Vichaar toh sabke pass hain. Lenin unko shabdon ke aabhushan pehna kar, ek sunder roop mein prastut karna, koi aapse seekhey.
    Iss uttam rachna ke srijan me liye badhai.

  2. रवि सर!
    आपने ठीक ही कहा, विचार तो सब के पास हैं। मेरे शब्द दैनिक प्रयोग के हैं, इसलिए विद्वान भी नहीं हूँ। हाँ, साहित्य और कला जीवन के लिए अपरिहार्य है। इसलिए अभिव्यक्ति मेरे जीने की कोशिश है। इस राह चल पड़ा तो किसी और रास्ते भटकने से बच गया। आभारी हूँ, हौसला बढ़ाने के लिए।

  3. शहादत कभी बेकार नहीं जाती ।
    अमर शहीदों को याद रखना न केवल हमारा कर्तव्य मात्र है बल्कि सच्चे अर्थों में कविता वही है जिसमें शहीदों को याद किया जाए या प्रभु का गुणगान किया जाए ।
    वाह क्या बात है ? बंधुवर ।
    सुंदर सृजन के लिए आपको साधुवाद और आशीर्वाद ।
    आपका बड़ा भाई
    ईश्वर दयाल गोस्वामी ।