“बरस जा”

Brijpal Singh

रचनाकार- Brijpal Singh

विधा- कविता

आज कुछ बादल से लगे हैं दूर आसमा पे, शायद मिलेगी राहत हमें इस भरी तपन से !
तेरी इसी आस मैं बैठा हूँ एक मुद्दत लेकर, तू जरा अपनी ताकत मुझ पर कुर्बान कर दे !

ए दूर के बादल कभी बरस भी जा, ऊब गया हूँ मैं इस भरी तपन से !
देख जरा हाल क्या हो गया इंसान का यहां, रहमत अपनी हमपर भी कुर्बान कर दे !

दया तो तुझे आती ही होगी मुझ पर शायद, गलती है क्या मेरी मुझे ये बता भी दे !
मैं सहमा हूँ बहका सा हूँ बस तेरी खातिर, तू बस अपनी सूरत कभी दिखा भी दे !

सुख गये खेत और खलिहान मेरे तू है बस वजह , सूरत तो छोड़ कभी मूरत अपनी दिखा भी दे !
जानें भी न जाने कितनी कुर्बान हुई तेरी खातिर यहां, तू क्या है चाहता अब खुलकर जरा बता भी दे !

रो- रो कर थक गए हम इस कदर , जरा बौछारें अपनी अब दिखा भी दे !

……….बृज

Sponsored
Views 33
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Brijpal Singh
Posts 53
Total Views 1.8k
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं जानता क्या कलम और क्या लेखन! अपितु लिखने का शौक है . शेर, कवितायें, व्यंग, ग़ज़ल,लेख,कहानी, एवं सामाजिक मुद्दों पर भी लिखता रहता हूँ तज़ुर्बा हो रहा है कोशिश भी जारी है !!

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia