बरगला ये हवा रही है मुझे साथ अपने बहा रही है मुझे

Rakesh Dubey

रचनाकार- Rakesh Dubey "Gulshan"

विधा- गज़ल/गीतिका

बरगला ये हवा रही है मुझे
साथ अपने बहा रही है मुझे
———————————————-
ग़ज़ल
क़ाफ़िया- आ, रदीफ़- रही है मुझे
वज़्न-2122 1212 22/112
अरक़ान-फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ेलुन/फ़इलुन
बहर- बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मख़बून
———————————————-
बरगला ये हवा रही है मुझे
साथ अपने बहा रही है मुझे
———————————————-
रास आती वफ़ा रही है मुझे
बात इतनी सता रही है मुझे
———————————————-
रौशनी क़ैद है चराग़ो में
ज़िंदगी दे ख़ता रही है मुझे
———————————————-
कौन दिल के करीब से ग़ुजरा
याद फिर उसकी आ रही है मुझे
———————————————-
रातरानी महक महक घर की
रातदिन क्यों सता रही है मुझे
———————————————-
ज़ुल्फ़ कोई सुखा रहा छत पर
एक बदली बता रही है मुझे
———————————————-
सर झुकाये खड़ा हुआ हूँ मैं
भूख क्या दिन दिखा रही है मुझे
———————————————-
ज़िद नये इन्क़िलाब की गुलशन
अन्दर अन्दर जला रही है मुझे
———————————————-
राकेश दुबे "गुलशन"
14/11/2016
बरेली

Views 17
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rakesh Dubey
Posts 28
Total Views 342
Manager (IT), LIC of India, Divisional Office, D. D. Puram, Bareilly-243122, (U. P.) Mobile- 9412964405

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia