बन्दरबांट

Rajeev 'Prakhar'

रचनाकार- Rajeev 'Prakhar'

विधा- कविता

मित्रो, प्रस्तुत है मेरी एक पुरानी व्यंग्य रचना, शीर्षक है – 'बन्दरबांट l यह रचना कुछ वर्ष पूर्व 'अमर उजाला' में मेरे वास्तविक नाम (राजीव कुमार सक्सेना) से प्रकाशित हुई थी –

सरकारी लट्टू ने पुन:चक्कर लगाया,
और, विद्यार्थियों के लिये दोपहर का भोजन,
आखिरकार विद्यालय में आया l
इस भोजन की सुलभता और पौष्टिकता,
अपना कमाल दिखाने लगी l
तभी तो गुरुजी की उपस्थिति,
विद्यालय में प्रतिदिन,
शत-प्रतिशत नज़र आने लगी l
अजी, अब तो बड़े साहब भी अपना दायित्व,
बखूबी निभाते हैं l
तभी तो उनके घरेलू बर्तन,
विद्यालय की शोभा बढ़ाते हैं l
नौनिहालों का पेट, आकाओं की नीयत,
वाह, क्या मेल है l
अजी, इस मेल के आगे तो,
बन्दरबांट भी फ़ेल है l
😄😄😄
– राजीव 'प्रखर'
मुरादाबाद
मो. 8941912642

Views 59
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rajeev 'Prakhar'
Posts 17
Total Views 739
I am Rajeev 'Prakhar' active in the field of Kavita.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
3 comments