बना लूँ एक किताब

मनहरण मनहरण

रचनाकार- मनहरण मनहरण

विधा- कविता

बना लूँ एक किताब,
जिसमें हो मेरे ख्‍वाब,
भरी हो सारी खुशियाँ,
और हो सबकुछ लाजवाब।

पन्‍ने भले सीमित हों,
बातें हो सारी सुदंर,
ऐसा न हो कोई भाषा,
जो करा दे अपने में बवंडर।

जो जान ले मुझको इससे,
कर ले प्रेम एक पल ही,
भर रहें वो हरदम,
भले मुझसे कर ले छल ही।

लिखेगें आज कई शब्‍द-सुंदर,
मेरे शब्‍द तो हों टूटे-फूटे,
भले रास न आये किसी को,
पर बंधे प्रेम ये कभी न छूटे।

————— मनहरण

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मनहरण मनहरण
Posts 27
Total Views 248

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia