बदलाव प्रकृति का नियम है ।

pawan jaipuri

रचनाकार- pawan jaipuri

विधा- लेख

अगर आप जीवन में लगातार
सफल बने रहना चाहते हैं,
तो समय के अनुसार,
स्थिति के अनुसार
और जनरेशन के अनुसार
अपने आपको बदलते रहिए,,
स्वयं को अपडेट करते रहिए !
क्योंकि जो समय के अनुसार
बदलता नही है
वह उससे प्रतिस्पर्धा रखने वालों
में कमजोर समझा जाता है
और वह वैल्यूएबल नही रह पाता ।
उसके प्रतिस्पर्धी उसके बराबर
खड़े होते हुए भी,
बहुत जल्द उससे
आगे निकल जाते है ।
आपका आने वाला हर लेवल
एक नये वर्जन की मांग करता हैं ।
अगर उस लेवल के लिए आप
स्वयं को अपडेट करेंगे,
तभी आप उस लेवल को
क्वालिफाई कर पायेंगे…

इसलिए जमाने के साथ
चलते रहिए….
नही तो लोग
आपका साथ छोड़ देंगे….

-पवन जयपुरी

Sponsored
Views 33
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
pawan jaipuri
Posts 6
Total Views 291
पवन राठौड़ जयपुर, (राज.) ☆प्रकाशित पुस्तकें- ● श्रृद्धा के पुष्प ● महकते लफ्ज ● सत्यम प्रभात ☆ अन्य लेखन कार्य ● 2009 से कई समाचार पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित होती रही हैं ● 2011 में एक राजस्थानी एल्बम "अईंया मत छोड़ जाओ" में गीत लिखे ●2014 में एक डाक्यूमेंट्री की स्क्रिप्ट & स्क्रीन प्ले लिखा । ☆ उपलब्धियाँ - ● क्षत्रिय रत्न - 2015 ● युग सुरभि सम्मान-2016 मो. +91 92 69 101 101

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment