बड़ो से कर ली दोस्ती, तो कोई बड़ा नहीं होता

आलोक प्रतापगढ़ी

रचनाकार- आलोक प्रतापगढ़ी

विधा- शेर

बड़ो से कर ली दोस्ती, तो कोई बड़ा नहीं होता।
मुकद्दर बदलने के वास्ते कोई खड़ा नहीं होता।।

समुद्री लहरों से सीख लो, बढ़ना और घटना।
कि वक्त बदलता है पलभर में, और बड़ा हमेशा ही बड़ा नहीं होता।।

आलोक प्रतापगढ़ी

Views 15
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आलोक प्रतापगढ़ी
Posts 3
Total Views 37
कवि आलोक सिंह प्रतापगढ़ी

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia