बच्चे थे तो अच्छे थे

Pooja Singh

रचनाकार- Pooja Singh

विधा- कविता

"बच्चे थे तो अच्छे थे ,
जब दिल खोल के जी तो लेते थे
रो रो कर भी हस लेते थे ,
हर रिश्ते में खुश हो लेते थे .
हर आंसू के गिरने से पहले ,
कोई पोंछ उन्हें तो देता था
एक मुस्कराहट के पीछे ,
सब कुछ वार कोई तो देता था
वो भी क्या दिन थे जब
हिलते कदमो की आहट से ही
पहचान हमे कोई लेता था ,
सोचते हैं क्यों बड़े हुए ?
अपनी पहचान बनाकर भी ,
हम अपनों से हैं दूर हुए .
दुनिया को खुश करने की खातिर ,
अपनी ख़ुशी से दूर हुए .
इस रंग बदलती दुनिया में ,
शोहरत बी है और नाम भी है .
पर तेरी ख़ुशी में खुश हो ले
दुनिया में वो जज्बात नहीं .
इसीलिए बच्चे थे तो अच्छे थे ,
दुनिआ की सच्चाई से दूर तो थे "

Views 27
Sponsored
Author
Pooja Singh
Posts 10
Total Views 252
I m working as an engineer in software company .I m fond of writing poems .
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia