*बचपन की यारी*

Kumar Vivekanand

रचनाकार- Kumar Vivekanand

विधा- कविता

लव कुश दो संतानें हूँ मैं,
अपने माँ-बाप का,
खेल-कूद कर बचपन बिता दी,
जीवन के अभिन्न अंग का
सच पूछो तो यारों,
बहुत दुख हुआ,
पहूँचकर जवानी की दहलिज पर.

संग छूटा जा रहा,बचपन की यारी का,
शब्द मेरा फूट पड़ा,संग बीती कहानी का,
य़ाद आ रहा आज, बाबू की पहरेदारी का,
माँ की मीठी प्यारी लोरी का,

आज महाप्रेम उसका, तुच्छ सा लगता है ,
कल के प्यारे झगड़े से,
दिल का दर्द है,आँसू में बदल जाता,
जब आँखें दूर होती है,उनकी मुलाकतों से.

य़ाद आता है वो क्षण,
जब खाना खाता था संग,
पीता था पानी,एक घूँट वो और एक घूँट हम,
आज एहसास होता है, भाई के जुदायी का गम,

काश , ये जवानी न आयी होती,
बचपन मेरी बीती न होती,
दोनों भाई होते संग,
बीतता हर सुबह-शाम एक रंग एक रंग.
……………………………………………………

Views 15
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Kumar Vivekanand
Posts 6
Total Views 59

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia