बघेली कविता

Ashish Tiwari

रचनाकार- Ashish Tiwari

विधा- कविता

किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !
अपने खुद जीवन के साथे आँख मिचउली खेलन !!

पढ़न नहीं हम कबहू मन से आपन हाल बताई !
कक्का किक्की साथे मा ही कविता अहिमक गाई !!

दिआ जलाये लेहे पोथन्ना देहरउटा मा बइठी !
राजू लाला अउर विपिन के कान पकड़ी के अइठी !!

ग़लत होय जब जोड़ घटाना दइके एड़ुआ पेलन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !

गुट्का पाउच खूब खबाइन दोस्त परोसी हितुआ !
उहौ फलाने खर्च करय खुब जे थूक मा सानय सेतुआ !!

भिरुहाये बागय उ हमका दुपहर साँझ सकारे !
खेते मेड़े काम कराबय गरिआबय दउमारे !!

सुनत रहन हम बहुत दिना से एकदिन मुड़भर बेलन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !!

घरके पहिलउठी बेटबा हम रोउना खूब रोबाई !
महतारी के बात ना मानी दिनभर करी लड़ाई !!

सोबत परे हाथ गोड़ बाधिस मरतय मारिस डंडा !
सगलौ भूत बगारे भगिगे बनिगय अम्मा पंडा !!

दुसरे दिन हम गाड़ी बईठन भेजय लागन बेतन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !!

मौलिक Kavi Ashish Tiwari Jugnoo
09200573071 / 08871887126

Sponsored
Views 1,691
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ashish Tiwari
Posts 45
Total Views 2.9k
love is life

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia