” ———————————————- फूल मुस्कराते हैं ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गज़ल/गीतिका

आंखों में तुम हो बसे , रंग नये भाते हैं !
पलकों में सजते सपन , और मुस्कराते हैं !!

औरों से हम चाहें ,दोष ना गिने कोई !
अपने ही अक्सर यहां , उंगलियां उठाते हैं !!

हंसना ही जीवन है , हैं आतप सदा संगी !
काँटे हो बैरी भले , फूल मुस्कराते हैं !!

राजनीति घटिया हुई , विदूषक से नेता हुए !
देशहित नहीं प्यारा , हमें बांटें जाते हैं !!

खौफज़दा है सब यहां , साये हैं आतंकी !
आड़ धर्म की लेकर , सबको छकाते हैं !!

वक़्त की मेहरबानियां , रंग यों दिखाती हैं !
मिलते रहे जो गले , नज़र ना मिलाते हैं !!

हिंदुस्तान है ये मेरा , कैसी ये त्रासद है !
हिन्दू हैं कहना गलत , सेक्युलर कहलाते हैं !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 25
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 125
Total Views 29.5k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia