फूल बूटों से सजा कर के हरम रक्खा है

Pritam Rathaur

रचनाकार- Pritam Rathaur

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल
***********
2122 1122 1122 22

प्यार की राह पहला जो क़दम रक्खा है
तुमको पाकर के सदा दूर ये ग़म रक्खा है
🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐
वक़्ते आवाज़ है तू अब भी सुधर जा बंदे
वरना बरबादी ने भारत में क़दम रक्खा है
🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐
मिलती हिम्मत है मुझे जुल्म से लड़ जाने की
सर को जब सिज़्दे में हाथों में क़लम रक्खा है
🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐
किरचियों में न कहीं कल्ब बिख़र जाए मेरा
इसलिए हमनें न आँखों को ये नम रक्खा है
🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐
फूल खिल जाते हैं सहरा में गुलाबों वाले
मेरे मौला ने ही ये नज़रे क़रम रक्खा है
💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖
दिल फ़रेबी भी अज़ब शै है जहां में यारों
बस वफ़ा हमसे करेंगे ये भरम रक्खा है
💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖
एक दिन मिट्टी में घर होगा मगर हम फिर भी
फूल बूटों से सज़ा करके हरम रक्खा है
💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖
तुझको मालूम न हो जाए हक़ीक़त मेरी
इसलिए दिल में दबा करके अलम रक्खा है
💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖
मयक़शी छोड़ के पीने से किया है तौबा
आज़ इक रिन्द ने मस्जिद में क़दम रक्खा है— गिरह
💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖
जिन्दगी आज़ तो गुलज़ार हुई जब "प्रीतम"
मेरी माँ ने मेरे सिर दस्ते-करम रक्खा है
💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖💖
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
08/08/2017

Sponsored
Views 1
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pritam Rathaur
Posts 168
Total Views 1.6k
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है मानवता की सेवा सबसे बड़ी सेवा है। सर्वोच्च पूजा जीवों से प्रेम करना ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia