फूल पलाश

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- हाइकु

(1)🌸फूल पलाश
अनजाना सा राग
फगुआ फाग 🌸

(2)🌸रंग पलाश
टहनी फूली आग
लगे अंगार 🌸

(3)🌸खिले पलाश
बाँध रही स्वपाश
मधुर मास 🌸

(4)🌸लाल पलाश
सूनेपन में आस
जीवन रास 🌸

(5)🌸उगे पलाश
यौवन का उन्माद
मन का भाव 🌸

(6)🌸हँसे पलाश
कोमल लाल लाल
लिये मशाल 🌸

(7)🌸बिछे पलाश
तारों भरी उजास
नव सुहास 🌸

(8)🌸मन पलाश
झूमते आसपास
तन बतास 🌸

(9)🌸नव पलाश
भूला बिसरा रास
मन हुलास 🌸

(10)🌸खिला पलाश
रंगीन भू आकाश
अंतःनिवास 🌸

(11) 🌸संग पलाश
प्रीत का अनुराग
वसंती राग 🌸

(12) 🌸सुर्ख पलाश
छटा ये वसंत की
धरा सुन्दरी 🌸

(13)🌸हर पलाश
उपवन में खास
भरे मिठास 🌸 —लक्ष्मी सिंह 💓😊

Views 131
Sponsored
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 116
Total Views 28.3k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia