फिर आओ गिरधारी

Rajeev 'Prakhar'

रचनाकार- Rajeev 'Prakhar'

विधा- मुक्तक

घोर तमस छाया है देखो,
पाप-ताप लाचारी का l
चहुँ ओर है झंडा ऊँचा,
लोभी-अत्याचारी का l

आहत है जग, मानवता का,
एक नया युग लाने को l
फिर से रस्ता देख रहा है,
गोवर्धन-गिरधारी का l

– राजीव 'प्रखर'
मुरादाबाद (उ.प्र.)
मो. : 8941912642

Views 34
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rajeev 'Prakhar'
Posts 17
Total Views 740
I am Rajeev 'Prakhar' active in the field of Kavita.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment