प्रेम

Neelam Sharma

रचनाकार- Neelam Sharma

विधा- दोहे

प्यार -प्रीत मत कीजिए ,प्रीत में दिल है रोय
वो जाने दुख आपना,जाके टीस हिय में होय
चैन ह्रदय का गवाँयके,मन दिन-रैना रोय
पीर पराई में कोई सन्मुख खड़ा न होय
नीलम शर्मा

Sponsored
Views 6
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neelam Sharma
Posts 237
Total Views 2.4k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia