प्रेम

संदीप शर्मा

रचनाकार- संदीप शर्मा "माही"

विधा- कविता

एक कविता

प्रेम
दर्शन है
कोई
प्रदर्शन नहीं

प्रेम
संस्कृति है
कोई
संस्कार नहीं

प्रेम
शजर की छाँव है
कोई
शाख का पत्ता नहीं

प्रेम
आत्मा है मधुरता की
कोई
साज का तार नहीं

प्रेम
मधुवन है ख्वाबों का
कोई
अमावस की रात नहीं

प्रेम
हकीकत है दुनिया की
कोई
गुजरी कहानी नहीं

प्रेम
गीत है मेरे अश्कों का
कोई
मेरे होठों की मुस्कान नहीं

प्रेम
अहसास है इबादत का
कोई
पल दो पल की इल्तजा नहीं

संदीप शर्मा "कुमार"

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 13
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia