*****प्रेम में अंधे न बनो*****

अजीत कुमार तलवार

रचनाकार- अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

विधा- कविता

प्रेम की भाषा को समझ कर प्रेम करो
प्रेम में डूब कर न इतना अँधा बनो
कि प्रेम और वासना का अन्तर न रहे
फिर घर के अंदर भी आना इक समंदर लगे !!

प्रेम किया जैसे राधा रानी ने कान्हा से
तुम भी प्रेम करो जैसे किया था मीरा ने
भरत ने प्रेम की खातिर राम को मान दिया
लछमन ने भी सीता का था सम्मान किया !!

आज का प्रेम अँधा बनकर डस रहा है
जिस के पीछे लगन लगी उस को हर रहा है
क़त्ल करता जा रहा है अपने परिवार का
यह कैसा प्रेम है यारो इस जहान का !!

जरूरी नहीं कि जिस को तुम चाहो वो
तुमसे ही प्रेम करे और तुम्हारी बने
यह तो जन्मो जन्मो का मेल है
जिस के आगे "अजीत" दुनिया सारी फेल है !!

न अपने अरमानो को दबा के जीवन को गुजरो
प्रेम की भाषा को समझो और जीवन गुजरो
आदर सत्कार से घर परिवार का मान रख के
प्रेम को बस आगे बढाओ,और फिर प्रेम करो !!

कवि अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Sponsored
Views 20
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अजीत कुमार तलवार
Posts 420
Total Views 9k
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia