प्रेम प्रीत

दाता नायक DR

रचनाकार- दाता नायक DR

विधा- कविता

चाँद भी यही कहता चाँदनी यही सूनाती है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

वो हंसो का जोड़ा प्रेमताल में प्रेमनाद करती है,
शांत सरोवर हिलोरे ले कलरव से गूँजित होती है ।
यह प्रेम दृश्य प्रियतमा जिवरा मेरा तड़पाती है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

वो नीलकमल के जोडे खिले अकेले आभा काँति से,
आज जलाशय में फैल गये निश्छल रति शाँति से ।
ये कमल कलि मेरा हृदयस्थिति देख मुस्काति है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

मछलियाँ मन मगन चंचल चाल चल रही है,
स्थिर शाँत सरोवर को नागिन नाच नचा रही है ।
तट किनारे मीनों का विचरना दाता को पास बूलाती है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

चाँद भी यही कहता चाँदनी यही सूनाती है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

••••••••••• दाता राम नायक

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 4
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
दाता नायक DR
Posts 1
Total Views 4

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia