प्रभु तुम ध्यान रखना.. .

शालिनी साहू

रचनाकार- शालिनी साहू

विधा- कविता

हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
असत्य के मार्ग से हटे
सत्य पर विजय करें!
हर घड़ी ये उपकार करना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना !
.
साजिशों से बचे
कर्तव्य अपना करें
निज मार्ग तुम प्रशस्त करना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
हर सवेरा रौशन करे
धर्म और ईमान पर चलें
ऐसा ज्ञान तुम मुझमें भर ना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
विपत्तियों से न डरे
धैर्य धारण करे
हर मुश्किल घड़ी तुम साथ रहना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
विश्व-बन्धुत्व रहे
प्रेम सबसे करे
ह्रदय में सबके विद्यमान रहना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार, रायबरेली(उ0प्र0)

Sponsored
Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
शालिनी साहू
Posts 53
Total Views 495

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia