प्रभु तुम ध्यान रखना.. .

शालिनी साहू

रचनाकार- शालिनी साहू

विधा- कविता

हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
असत्य के मार्ग से हटे
सत्य पर विजय करें!
हर घड़ी ये उपकार करना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना !
.
साजिशों से बचे
कर्तव्य अपना करें
निज मार्ग तुम प्रशस्त करना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
हर सवेरा रौशन करे
धर्म और ईमान पर चलें
ऐसा ज्ञान तुम मुझमें भर ना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
विपत्तियों से न डरे
धैर्य धारण करे
हर मुश्किल घड़ी तुम साथ रहना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
विश्व-बन्धुत्व रहे
प्रेम सबसे करे
ह्रदय में सबके विद्यमान रहना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार, रायबरेली(उ0प्र0)

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 2
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
शालिनी साहू
Posts 36
Total Views 184

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia