प्रतीक बेटियाँ

Madhu Nagar

रचनाकार- Madhu Nagar

विधा- कविता

राष्ट्र की पूँजी हैं बेटियाँ
राष्ट्र की प्रतीक ये बेटियाँ ,
अम्बर को बाँहों मे लेती ये बेटियाँ ,
एन सी सी मे परिशिक्षित ये बेटियाँ ।
उन्नत मस्तक आकर्षक वेशभूषा ,
चुस्त चाल पुष्ट देह यष्टि ,
मधुर मुसकान , देश सेवा को व्याकुल
स्वावलम्ब , अनुशासन भरपूर ,
यह है शक्ति स्वरूपा ।
दरढपरतिज्ञय हो निकली है
राष्ट्र नव निर्माण उद्देश्य लिये ,
हाथ से हाथ मिलाओ बेटियों ,
अवसर है अनूप ।।
तुम से ही भारत !
तुम ही राष्ट्र प्रतीक ।।

"मधु"

Sponsored
Views 30
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Madhu Nagar
Posts 6
Total Views 124
लेखनी के माध्यम से अपनी कल्पना और भावात्मक विचारों की अभिव्यक्ति मुझे काव्य लेखन की ओर ले आई है । अतः आनन्द का अनुभव हो रहा है और मन में लिखने की उमंग बनी रहती है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia