प्रतीक बेटियाँ

Madhu Nagar

रचनाकार- Madhu Nagar

विधा- कविता

राष्ट्र की पूँजी हैं बेटियाँ
राष्ट्र की प्रतीक ये बेटियाँ ,
अम्बर को बाँहों मे लेती ये बेटियाँ ,
एन सी सी मे परिशिक्षित ये बेटियाँ ।
उन्नत मस्तक आकर्षक वेशभूषा ,
चुस्त चाल पुष्ट देह यष्टि ,
मधुर मुसकान , देश सेवा को व्याकुल
स्वावलम्ब , अनुशासन भरपूर ,
यह है शक्ति स्वरूपा ।
दरढपरतिज्ञय हो निकली है
राष्ट्र नव निर्माण उद्देश्य लिये ,
हाथ से हाथ मिलाओ बेटियों ,
अवसर है अनूप ।।
तुम से ही भारत !
तुम ही राष्ट्र प्रतीक ।।

"मधु"

Views 68
Sponsored
Author
Madhu Nagar
Posts 5
Total Views 87
लेखनी के माध्यम से अपनी कल्पना और भावात्मक विचारों की अभिव्यक्ति मुझे काव्य लेखन की ओर ले आई है । अतः आनन्द का अनुभव हो रहा है और मन में लिखने की उमंग बनी रहती है।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia