प्रजातंत्र

अवधेश कुमार राय

रचनाकार- अवधेश कुमार राय

विधा- कविता

अब कौन का तंत्र हैं.
कहने को प्रजातंत्र है.
मौलिकता की खोज में.
वादो यादो की सोच में.
जरा ठहर अभी तो जागा हैं.
मुल्क मेरा क्यो अभागा है.
चोरी कर हुकमरान गाते हैं.
लाशो में सज जवान घर आते है.
शहादत की गरिमा का हुकमरान माखौला उड़ाते हैं….
अब कौन सा तंत्र हैं.
कहने को प्रजातंत्र हैं.
मिट्टी की बनावट कैसी हुई.
कश्मीर की आवाम क्यों मैली हुई.
क्यों देश विरोध की गाथा है.
क्यां पत्थरों की प्रजातंत्र में कोई मर्यादा है.
आतंकि की खेप सजाई हैं.
तेरे मस्तक पर चोट लगाई हैं.
अब कौन सा तंत्र है.
कहने को प्रजातंत्र हैं.

अवधेश कुमार राय "अवध"

Sponsored
Views 68
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अवधेश कुमार राय
Posts 19
Total Views 440
मैं अवधेश कुमार राय आप के लिए अपनी रचना लेकर आया हुं, पत्रकारिता के साथ लेख, रचना, कहानी, कविता ,शायरी आप के लिए........ हमारी रचना के लिए संपर्क करें ब्लाग awadhmagadh.blogspot.com.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia