प्यार के दो अल्फाज

Raj Vig

रचनाकार- Raj Vig

विधा- कविता

इशारे वो इस कदर दिन मे
आजकल करने लगे हैं
नींद कम और सपने ज्यादा
अब रात आने लगे हैं ।

जुंबा से चुप हैं मगर
आंखों से सब बताने लगे हैं
जानते हैं वो दिल का हाल
शायद इसलिए सताने लगे हैं ।

किसी और की बात कर
निशाना हमे बनाने लगे हैं
चुपके चुपके धीरे धीरे
दिल मे हमारे समाने लगे हैं ।

सुनना चाहते हैं वो मेरी जुबां से
प्यार के दो अल्फाज जो गुनगुनाने लगे हैं
पार करेंगे नही वो हदों को
मुस्करा कर कई बार जताने लगे हैं ।।

राज विग

Sponsored
Views 40
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Raj Vig
Posts 47
Total Views 2.4k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia