बचपन और पेड़

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- कविता

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
पेड़ सा ना कोई हितकारी,
खाते थे फल करते सवारी।
🌹
माँ की गोद सा हर एक डाली,
सुखमय ममता सी हरियाली।
🌹
दे दो छुटपन की वो मारामारी,
ना भाती थी बंगला ना गाड़ी।
🌹
पेड़-सा निस्वार्थ मन की क्यारी,
खिले थे हर चेहरे प्यारी-प्यारी।
🌹
शुद्ध हवा और अमृत बरसाती,
पेड़-सा दूजा ना कोई उपकारी।
🌹
इन पर रहते पक्षी ढेर सारी,
इनसे सजते जीवन हमारी।
🌹
मत काट इसको मार कुल्हाड़ी,
पेड़ हैं हर खुशियों की प्रहरी।
🌹
लौटा दो वो बचपन हमारी,
एक पेड़ लगाओ हर दुआरी।
🌹🌹🌹🌹-लक्ष्मी सिंह 💓☺

Views 187
Sponsored
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 146
Total Views 44.7k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia