पुरूष हूँ !

डॉ०प्रदीप कुमार

रचनाकार- डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

विधा- कविता

पुरूष हूँ !
—————

पुरूष हूँ !
कोई पत्थर तो नहीं !
मुझमें भी है …
एहसास !
निर्मलता !
और मानवता |
सदियों से ही
कहते आए हैं
कि समाज…….
पुरूष प्रधान है !
लेकिन क्या ?
देखा भी है —
झाँककर कभी
उसके अंतस में |
कितना कुछ है….
उसके भीतर —
धैर्य !
विश्वास !
कर्मठता !
लगन !
मेहनत !
जिम्मेदारी !
सहनशीलता !
कर्तव्यपरायणता !
इत्यादि-इत्यादि ||
कौन कहता है ?
मर्द को दर्द नहीं होता !
होता है………..
दर्द भी और संताप भी !
जब खेला जाता है
उसके दिल से
छुप-छुप कर !
कहते हैं ………
दिल नहीं पत्थर है !
नर के सीने में |
किसने देखा ?
कब देखा ?
कहाँ देखा ?
क्यों देखा ?
आखिर कोई तो बताए ??
पूर्ण करता है पुरूष भी
अपनी हर जिम्मेदारी
इत्तमिनान से……….
बिना कुछ उफ किए !
सहता भी है !
पर ! कहता नहीं |
बस ! जीता है
अपनों के लिए…..
हाथ बंटाता है निकेत-कर्म में
सदैव चुपके-चुपके !
पर वो दिखता नहीं
सार्वजनिक तौर पर !
क्यों कि ?
वह करता है…….
तन-मन-धन से ||
जब भी घटित होते हैं
अमानवीय और नृशंस कुकृत्य
सारा पुरूष-वर्ग ही दोषी बनता है |
मानता हूँ …………….
कुछ नीच-अधम-पापी हैं
हमारे बीच में ,
जो कलुषित करते हैं
पुरूष और मानवता को ||
मिलते हैं — अपवाद !
देश-काल-वातावरण में
हर वर्ग में ………..
लेकिन इसका मतलब
यह तो नहीं —
कि प्रत्येक पुरूष
अमानुष है !
राक्षस है !
आतताई है !!
——————————
— डॉ० प्रदीप कुमार "दीप"

Views 8
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ०प्रदीप कुमार
Posts 81
Total Views 2.7k
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान (2016-17) मंजिल ग्रुप साहित्यिक मंच ,नई दिल्ली (भारत) सम्पर्क सूत्र : 09461535077 E.mail : drojaswadeep@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia