पुत्रियाँ

Top 30 Post

अजय कुमार मिश्र

रचनाकार- अजय कुमार मिश्र

विधा- कविता

पुत्र की चाहत,हो उसी की बादशाहत
हमारे समाज की यही मनोवृत्ति है,
पुत्री के जन्म पर होना झल्लाहट,
नारी के प्रगति में बनी हुयी भित्ति है।
हमने सारे सपने पुत्र के लिए गढ़े,
संसाधन सारे उन्हीं के लिए किए खड़े,
पुत्री की अभिलाषाएँ अंध कूप में पड़े,
ऐसे में नारी कैसे आगे बढ़े।
पुत्र से कहा-"पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब,
खेलोगे और कूदोगे तो होगे ख़राब।"
पर क्या की पुत्री के अध्ययन की भी चिंता ,
क्या उसे कभी दी निर्णय कि स्वतंत्रता।
है विद्या की देवी नारी औ शक्तिस्वरूपा,
पर विद्या से वंचित नारी औ भारस्वरूपा,
पुरुष के हितों में वो ख़ुद को खपातीं,
अपनी सारी पीड़ाएँ मौन पी जातीं।

पर अब पुत्रियाँ करती उद्घोष हैं,
हममें भी पुत्रों के जितना ही जोश है,
दिखाया रीओ में सिंधु और साक्षी,
भारत का मान हमने ही राखी।
खिलाड़ी एक-एक कर होते शिकस्त थे,
पदक के सपने तब होते ही ध्वस्त थे,
सिंधु-साक्षी पदक पाने में व्यस्त थे,
विजय वरण को होते अभ्यस्त थे।
अपदक पीड़ा से था भारत रुआँसा,
सिंधु दिया रजत साक्षी ने काँसा,
जन-जन के उर में स्थान बनाया,
भारत की बेटी का मान बढ़ाया।
मत समझो पुत्री को बला की पैदाईश,
पूरी करेंगी ये सारी ही ख़्वाहिश,
जब-जब ही पुत्र हो जाएँगे नाकाम,
पुत्रियाँ ही बचाएँगीं आपका सम्मान।

Views 1,960
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अजय कुमार मिश्र
Posts 31
Total Views 2.3k
रचना क्षेत्र में मेरा पदार्पण अपनी सृजनात्मक क्षमताओं को निखारने के उद्देश्य से हुआ। लेकिन एक लेखक का जुड़ाव जब तक पाठकों से नहीं होगा , तब तक रचना अर्थवान नहीं हो सकती।यहीं से मेरा रचना क्रम स्वयं से संवाद से परिवर्तित होकर सामाजिक संवाद का रूप धारण कर लिया है। कविता , शेर , ग़ज़ल , कहानियाँ , लेख लिखता रहा हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia