पितृपक्ष पर विषेश

पं.संजीव शुक्ल

रचनाकार- पं.संजीव शुक्ल "सचिन"

विधा- कविता

*दिखावा*

श्राद्ध पे करते कई दिखावा
मात पिता के मरने पर,
पानी तक को कभी ना पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
कभी रुलाया माँ को उसने
कभी पिता को तड़पाया
दाने – दाने को तरसाया
बृद्धाश्रम तक पहुचाया,
भंडारे करता फिरता वह
खुद को दानी कहने पर,
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
नित्य पिता पे धौंस जमाता
माँ पर हाथ उठाता है
खुद को माने सर्व सामर्थी
उन्हें बेकार बताता है,
अपमानित करे हरदिन उनको
बीवी के बस कहने पर,
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
गर्भ में रखकर जिसने तुझको
अपने रक्त से सीचा है
उंगली पकड़कर जिसका तुमने
पग – पग चलना सीखा है,
आज चिल्लाता है तूं केवल
उस माँ के गीर जाने पर
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
ताप सहा संताप सहा
पिता ने विपत्त निधान सहा,
किन्तु उनको कष्ट हुआ
बच्चों के दूख में रहने पर
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
श्राद्ध करे महादान करे
करता बहुत दिखावा है
कवि देखता सोच रहा है
यह तो मात्र छलावा है,
पानी देता अंजुल भर – भर
पितृपक्ष में तर्पण पर,
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
मात पिता भगवान सरीखे
जीते जी दो उनको मान,
तभी तो तेरे बच्चे तुझको
जीवन भर देंगे सम्मान,
मात पिता से मुख ना मोड़ो
भला -बुरा कुछ कहने पर
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
©®पं.संजीव शुक्ल "सचिन"

Sponsored
Views 4
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
पं.संजीव शुक्ल
Posts 101
Total Views 875
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia