पिता

डॉ संदीप विश्वकर्मा

रचनाकार- डॉ संदीप विश्वकर्मा "सुशील"

विधा- कविता

एक पिता ही है जो ख्वाहिशे अपनी बच्चो के नाम करता है…
परीवार को छाया देने के लिये धूप मे भी काम करता है…

ऊपर से सख्त अंदर से नर्म,
बच्चो के भले की दुआ सुबह शाम करता है…
मुश्किलो से लड़ने के लिये,
आगे बड़ने क लिये,
होशलो मे उड़ान भरता है….

माला की डोरी की तरह परिवार को सहेजे है, सत्य के मार्ग की राह बताता है…
मेरी ख्वाहिश कि पतंग को आसमान मे पहुचाने के लिये,
खुद की सांसे भी नीलाम करता है…

बचपन मे खेलने के लिये घोड़ा बन जाता है, नींद आने पर पेट पे सुलाता है,
उंगली पकड़ कर चलना सिखाता है…
अंधेरे मे उजाला है,
परिवार का विश्वास है आस है
पिता ही हिम्मत है मेरी और पिता ही पहचान है…

पिता के बारे मे और क्या लिखेगा "सुशील" ,
पिता तो इस धरती पर जीता जागता भगवान है…

Sponsored
Views 8
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia