पिंजरे की मैना

Shubha Mehta

रचनाकार- Shubha Mehta

विधा- कविता

पिंजरे की मैना ये
किसे सुनाये दास्ताँ दिल की
कितनी खुश थी
पेड़ों पे वो
दिन भर चहकती रहती थी
इस डाल से उस डाल पर
इस टहनी से उस टहनी
जहाँ चाहे उड़ जाती थी
कच्चे -पक्के कैसे भी फल
तोड़ -तोड़ खा लेती थी
कितना अच्छा जीवन था वो
आज़ादी से भरा हुआ
चलती थी मनमर्ज़ियाँ
थी साथ कितनी सखियाँ-सहेलियाँ
पर अब इस सोने के पिंजरे में
घुटता है दम
नहीं चाहिए ये स्वादिष्ट व्यंजन
बस, कोई लौटा दे मुझको
फिर से मेरी आज़ादी ।

Sponsored
Views 229
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Shubha Mehta
Posts 15
Total Views 841

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia