पापा जी का गुस्सा

Ashish Tiwari

रचनाकार- Ashish Tiwari

विधा- कविता

कक्षा १० वी की बात थी ,
उसदिन अमावास की रात थी !!

मै लिख रहा था कविता ,
अचानक देख रो पड़े पिता !!

बोले बेटा पढ़ाई कर ले ,
हम सब का दुःख हर ले !!

कविता काम नही आयेगी ,
तेरी बीबी क्या खायेगी ?

लोग कहेगे तुझे निकम्मा ,
सुनकर रोयेगी तेरी अम्मा !!

भाई भी तेरे जैसे होगे ,
पॉकेट में न पैसे होगे !!

गली मुहल्ले में रोकेगे ,
बिना बात के वो टोकेगे !!

घर का तू बड़ा बेटा है ,
मीठे में जैसा पेठा है !!

अभी तो है सम्मान हमारा ,
कभी नहीं दुश्मन से हारा !!

खूब पढ़ो और नाम कमाओ ,
मात पिता को चरोधाम कराओ !!

जग में तेरा नाम हो रोशन ,
सुनकर बाते हुआ इमोशन !!

अपने मन में किया प्रतीज्ञा ,
मै पूर्ण करू पापा की आज्ञा !!

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 181
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Ashish Tiwari
Posts 45
Total Views 1.8k
love is life

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia