पांव में

विजय कुमार नामदेव

रचनाकार- विजय कुमार नामदेव

विधा- गज़ल/गीतिका

जिंदगी जलने लगी है इन सुखों की छांव में।
चैनो-अमन हम छोड़ आए अपने बूढ़े गांव में।

शहर में सुख सब मिले पर मन परेशा ही रहा।
गांव में गम थे तो लेकिन जैसे पानी नाव में।

हमने वफा के नाम पर है सीख ली आवारगी।
कौन कब आकर फँसे रहते थे बस इस दाव में।।

कर गुजरना अपनी फितरत थी तो सब करते रहे।
काम अच्छे या बुरे आकर के झूठे ताव में।

हम सुधरने से लगे हैं बेशरम कुछ रोज से।
कोई साँकल रोकती है पांव बांधे पांव में।।

Sponsored
Views 27
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
विजय कुमार नामदेव
Posts 25
Total Views 8.2k
सम्प्रति-अध्यापक शासकीय हाई स्कूल खैरुआ प्रकाशित कृतियां- गधा परेशान है, तृप्ति के तिनके, ख्वाब शशि के, मेरी तुम संपर्क- प्रतिभा कॉलोनी गाडरवारा मप्र चलित वार्ता- 09424750038

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia